एमपी में बुरी हार के बाद कांग्रेस ने EVM पर ठीकरा फोड़ा, ‘EVM हैक करके परिणाम बदले गए’

0
60

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की बड़ी हार के बाद प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने कांग्रेस के सभी कैंडिडेट्स की बैठक बुलाई गई.जहां भोपाल प्रदेश कार्यालय में हार की समीक्षा की गई. पूर्व सीएम कमलनाथ ने सभी प्रत्याशियों से वन-टू-वन चर्चा भी की. अब अटकलें ये भी चल रही हैं. कि वे अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे सकते हैं. कमलनाथ से मिले कुछ कैंडिडेट्स ने EVM पर सवाल उठाए हैं. 

कांग्रेस नेताओं के EVM हैक होने के दावे पर कमलनाथ ने कहा कि, मुझे कुछ विधायकों ने बताया कि उन्हें अपने गांव में 50 ही वोट मिले. यह कैसे संभव हो सकता है? जिसको पहले से परिणाम पता था, उसने एग्जिट पोल बनवाया होगा. एग्जिट पोल तो माहौल बनाने के लिए था. ‘सभी की बात सुन लूं, फिर किसी फैसले पर आना सही होगा. 

बैठक के बाद पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने EVM को लेकर कहा कि, ‘हमने बटन दबा दिया और पता ही नहीं चला कि वोट कहां गया है? अब वीवीपैट आई है, तो 7 सेकंड के लिए दिखाए जाते हैं. मूल बात यह है कि जिस मशीन में चिप लगी है, उसके हैक होने की संभावना होती है.

मतदान की दो पेटी खुली ही नहीं- विजय लक्ष्मी साधौ

खरगोन की महेश्वर सीट से पूर्व मंत्री विजय लक्ष्मी साधौ भी चुनाव हार गई हैं. उन्होंने आरोप लगाया, ‘मेरी विधानसभा में मतदान की दो पेटी खुली ही नहीं. ‘ प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी मिलने के सवाल पर बोलीं, ‘यह संगठन का फैसला है. 

EVM हैक करके परिणाम बदले गए

कांग्रेस के दिग्गज नेता डॉ. गोविंद सिंह ने विधानसभा चुनाव के परिणाम पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा, ‘अमित शाह ने लोकसभा चुनाव में ऐलान किया था, कि बीजेपी की सीटें 300 के पार आएंगी. उनके इस बयान के बाद 300 सीटें आईं हैं. यूपी के विधानसभा चुनाव में सपा की लहर थी, तब पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि, दो तिहाई बहुमत से सरकार बनाएंगे. यूपी में बीजेपी की सरकार बन गई. EVM हैक करके परिणाम बदले गए.’

लक्ष्मण सिंह ने EVM में हेरफेर नहीं मानी

वहीं पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने EVM में हेरफेर की बात से इंकार किया है. उन्होंने कहा कि, मैं ऐसा नहीं मानता कि EVM में हेरफेर हुई है. चुनाव में काले धन का इस्तेमाल हुआ है. भाजपा सरकार में लोगों को शिक्षित नहीं होने दिया, इसलिए जैसा वो कहते गए, गरीब और अशिक्षित लोग वैसा ही करते हैं. 

हैंडपंप से बोतल में पानी भरा और कहा कि ये गंगाजल है। लोगों से गंगाजल के नाम पर हैंडपंप के पानी की कसम खिलवा ली। फिर अपने पक्ष में मतदान करा लिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here