Category Archives: लेख

Post Image

अखण्ड भारत की परिकल्पना की नींव रखता ‘संघ परिवार’

किसी भी राजनैतिक दल की नींव मूल रूप से दो आयामों से पुष्पित – पल्लवित हुई है, वे हैं सिद्धांत और विचारधारा..कई ऐसे देश हैं जहां सैद्धांतिक राजनैतिक दल सत्ता के पक्ष या विपक्ष में रहकर जनसेवा कर रहे हैं, तो कहीं पर वैचारिक राजनैतिक दल भी अपना वजूद इसी तरह बनाये हुए हैं। यदि […]

Read more
Post Image

प्याज खाकर भैसें खुश…कहा शुक्रिया साहब

दृश्य एक – आगर मालवा जिले के मथुरा खेडी में रहते हैं देवी सिंह जिन्होंने आठ बीघा जमीन पर प्याज लगायी थी, बीज खाद और मजदूरी में एक डेढ लाख रूप्ये खर्च करने के बाद प्याज की फसल जब आयी तो घाटा दे गयी। बंपर फसल आने के बाद मंडी में उमडी किसानों की भारी […]

Read more
Post Image

हरसूद डूब रहा था…उमा भारती ने कहा- इतना नहीं सोचा करते !

बहुत दिनों से ठंडी पडी नर्मदा की घाटी फिर सुलग रही है। नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेघा पाटकर अपने ग्यारह साथियो के साथ धार जिले के चिखल्दा गांव में नर्मदा किनारे अनशन पर बैठी हैं। जीने दो हमें गांव में रहने दो, के नारे बडवानी और धार जिले के आदिवासी गांवों में गूंज रहे […]

Read more
Post Image

अच्छी बातें तो बुरे लोग भी करते हैैं…

  लेखक- राघवेंद्र सिंह भोपाल     एक कहावत है अच्छी बातें तो बुरे लोग भी करते हैैं। इसलिये आदमी बातों से नहीं अपने कर्मों से पहचाना जाता है। यह कहावत राजनैतिक, सामाजिक, प्रशासनिक से लेकर मीडिया कर्मियों पर भी लागू होती है। यह इसलिये इन बिरादियों के लोगों से भी माफी के साथ आज […]

Read more
Post Image

“संवेदनहीन साक्षर होने से कहीं अच्छा संवेदनशील निरक्षर होना है”

प्रसिद्ध अभिनेता और वक्ता आशुतोष राणा का संस्मरण जो उन्होंने अपनी फेसबुक वॉल पर साझा किया…जीवन जीने की कला सिखाता है…आशुतोष की यादों के झरोखों से यह लेख… आज मेरे पूज्य पिताजी का जन्मदिन है सो उनको स्मरण करते हुए एक घटना साँझा कर रहा हूँ। बात सत्तर के दशक की है जब हमारे पूज्य […]

Read more
Post Image

टट्टी पर मिट्टी की कहानी…

ग्राउंड रिपोर्ट सुबह सवेरे वैसे तो उस शख्स को पहली बार दफ्तर में ही चल रहे किसी टीवी चैनल पर देखा। टीवी स्क्रीन पर विजुअल्स में एक शख्स बंद पडे शौचालय में रखे कंडे और कूडा करकट निकालता है फिर झाडू लगाता है और बाद में उसी शौचालय की पूजा भी कर देता है। जानकारी […]

Read more
Post Image

“सरकार और शख्सियत को उठाने और गिराने वाला नहीं है मीडिया”

सुबह सवेरे, (ग्राउंड रिपोर्ट) वैसे जबलपुर मैं गया तो भाई की शादी में शामिल होने था मगर रात को रिसेप्शन में ही अगले दिन सुबह पत्रकारो के लिये जबलपुर विश्वविघालय की ओर से कराये जा रहे योग शिविर के उद्घाटन सत्र में आने का न्यौता मिल गया। सोचा इस बहाने जबलपुर के साथी पत्रकारों से […]

Read more
Post Image

“डॉक्टर का डिनर सिंधिया की हैडलाइन”

वो पूरा दिन ही बहुत मारामारी वाला था, सीएम शिवराज सिंह के उपवास के आनन फानन में खत्म होने पर बडी मुशि्कल से भाई की शादी में जबलपुर जाने की छुट्टी मिली थी, मगर दो दिन बाद ही फिर भोपाल के भेल दशहरा मैदान के बाद टीटी नगर (शिवराज जी क्षमा करें जबान से तात्याटोपे […]

Read more
Post Image

नौकरी नहीं छोडूंगी….

नाटक : मर्द और औरत ▶ रशीद जहां [1905-1952, Urdu Writer] औरत – अरे फिर आ गये! मर्द – जी हां औरत – अभी कल ही तो आप शादी करने गये थे! मर्द – गया तो था! औरत – तो फिर? मर्द – तो फिर? औरत – मतलब यह है कि आपकी दुल्‍हन साहिबा कहां […]

Read more
Post Image

भोपाल में अब टीटी पीटी नहीं चलेगा…

अंग्रेजी साहित्य के मशहूर नाटककार विलियम शेक्सपीयर का ये जुमला नाम में क्या रक्खा है बीजेपी के साढे तेरह साल के राज में हर कुछ दिन में याद आ जाता है। इस बार मौका था भोपाल की विलीनीकरण की सालगिरह का। मंच सजा था भोपाल के वोट क्लब पर और बोलने वाले थे हमारे सीएम […]

Read more
mpheadline.com@gmail.com
http://www.facebook.com/mpheadline
SHARE