Category Archives: लेख

Post Image

चौकीदार का लट्ठ…बेअसर

– सचिन चौधरी,लेखक नमस्कार देशवासियों मैं एक लट्ठ। कोई आम लाठी नहीं। एक ऐसा लट्ठ जो इस मुल्क के मुख्य चौकीदार के हाथ में रहता हूं। यानि आप लोगों की भाषा में एक वीआईपी लट्ठ। राजतंत्र में मुझे राजदंड नाम दिया गया था। हर राजा जब कार्यभार संभालता था तो उसके सर पर राजमुकुट राजधर्म […]

Read more
Post Image

अपना-अपना घोटाला….

– सौरभ तिवारी, लेखक (सहायक संपादक ibc24) अजब नजारा है। घोटाले का बंटवारा चल रहा है। तेरा घोटाला-मेरा घोटाला। इतना घोटाला मेरे हिस्से का,उतना तेरे हिस्से का। इतनी बदनामी मेरी, तो उतनी तेरी। वार पर पलटवार। आरोप पर प्रत्यारोप। -ये देखो, घोटालेबाज के साथ दावोस में तुम्हारे प्रधानमंत्री की फोटो। -अच्छा! तो तुम्हारा भावी प्रधानमंत्री […]

Read more
Post Image

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में रवीश कुमार की स्‍पीच..

एनडीटीवी के एडिटर रवीश कुमार ने शनिवार को हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एक कार्यक्रम में शिरकत की. वहां उन्‍होंने हिंदी में अपनी बात रखी. वहां उन्‍हें इंडिया कॉन्‍फ्रेंस 2018 में हिस्‍सा लेने के लिए आमंत्रित किया गया था. उन्‍होंने वहां अपनी स्‍पीच में देश के वर्तमान हालात से लेकर छात्रों से जुड़े विषयों पर भी अपनी […]

Read more
Post Image

देश के पूर्व वित्तमंत्री ने खुले में रात क्यों गुजारी !

आज जब एक अखबार के व्यापार पेज पर पढा कि देश का विदेशी मुद्रा भंडार 420 अरब डालर के रिकार्ड स्तर पर आ गया है तो मुझे यशवंत सिन्हा याद आ गये। आप सोंचेंगे भला यहां कैसे बीजेपी के एक पुराने हासिये पर पडे नेता की याद आ गयी। तो आपको बता दूं कि नरसिंहपुर […]

Read more
Post Image

शाब्दिक बेहयाई और संसद की लक्षमणरेखा

साँच कहै ता…जयराम शुक्ल ये अजीब इत्तेफाक है, जिस दिन कैलीफोर्निया की 78 वर्षीय डेमोक्रेट नैंसी पेलोसी अमेरिकी सदन में अपने आठ घंटे के लंबे प्रभावी भाषण के जरिए संसदीय इतिहास रच रहीं थी उसी दिन भारत के सदन में सांसद रेणुका चौधरी अपने अट्टहासों के जरिए संसदीय गरिमा पर चार चांद लगा रहीं थीं। […]

Read more
Post Image

यह ‘पैड’नहीं प्रतीक है ‘ममत्व और स्त्रीत्व’ का, प्रकृति कभी ‘अशुद्ध’ नहीं होती

“यह ‘पैड’नहीं प्रतीक है  ‘ममत्व और स्त्रीत्व’ का, प्रकृति कभी ‘ अशुद्ध’ नहीं होती” ‘प्रकृति’ परमात्मा की अवधारणा है और ‘परंपरा’ मनुष्य की…शायद यही वजह है कि प्रकृति कभी गलत नहीं करती जबकि परंपराओं में कई बार ‘अंधविश्वास’ दिख जाता है। स्त्री शरीर ईश्वर द्वारा बनाई गई एक ऐसी संरचना है जो सम्पूर्ण सृष्टि को […]

Read more
Post Image

“मोदी को छेडो नहीं और शिवराज को छोडो नहीं”

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की जीत का एक ही मंत्र.. गुजरात चुनाव के नतीजों ने ये साबित कर दिया था कि प्रधानमंत्री श्री मोदी पर व्यक्तिगत और सीधा हमला आसान राजनीति नहीं है. दरअसल इसके कारण भी हैं जिस तरह प्रधानमंत्री ने देश का सीईओ बनकर जो काम किया है वो तारीफ के लायक भी है. […]

Read more
Post Image

बदले बदले से शिवराज नजर आते हैं…

पत्रकारिता का एक सिद्धांत है कि जितना आप न्यूज़ सोर्स के करीब रहोगें उतनी सही और सटीक आपकी रिपोर्टिंग होगी। ये जुमला कल हुये शिवराज सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार से याद आ गया। हुआ यूं कि ठीक एक रोज पहले गये तो हम सीएम शिवराज सिंह को अपने चैनल के कार्यक्रम में आमंत्रित करने मगर […]

Read more
Post Image

पांव पांव वाले भैया के गांव में परकम्मा वाले भैया

जिस दिन से सुना था कि दिग्विजय सिंह अपनी नर्मदा परकम्मा में सीएम शिवराज सिंह के गांव जैत जायेंगे उसी दिन से इस घटना को देखने का मन बना लिया था। आफिस से स्टोरी को मंजूरी मिलते ही निकल पडे भोपाल से करीब सत्तर किलोमीटर दूर सिहोर जिले के गांव जैत की ओर जो हमारे […]

Read more
Post Image

मेरे मरने के बाद लोग सुनेंगे पर ये ‘अष्टधातुई’ काँग्रेसी नहीं

साँच कहै ता..जयराम शुक्ल विंध्य के सफेद शेर कहे जाने वाले श्रीनिवास तिवारी की अंतिम यात्रा में जो शामिल हुआ या देखा उसकी जुबान में बाल ठाकरे की मौत पर उमड़ी भीड़ का वृतांत था। उत्तर भारत में तिवारीजी कमलापति त्रिपाठी के बाद दूसरे ऐसे बड़े नेता थे जिनके लिए पार्टीलाइन तोड़कर ऐसा जनसमुद्र उमड़ा। […]

Read more
mpheadline.com@gmail.com
http://www.facebook.com/mpheadline
SHARE