शिवराज का सधा हुआ राजनैतिक दांव, राज्यसभा के रास्ते प्रह्लाद पटेल पर अंकुश लगाने की कवायद !

-पवन देवलिया, वरिष्ठ पत्रकार

भोपालः भाजपा की राजनीति मे भाजपा के वरिष्ठ नेता मेघराज जैन के राजनैतिक शिष्य करेली नरसिंहपुर के पुराने गढे हुए भाजपा नेता कैलाश सोनी अपने जिले के कद्दावर नेता प्रहलाद पटेल से राजनीति मे जूझते रहे है। युवा मोर्चा की राजनीति में मेघराज जैन की अध्यक्ष वाली टीम के समय कैलाश सोनी नरसिंहपुर जिले के युवा मोर्चा अध्यक्ष भी रहे है। प्रदेश भाजपा संघठन के चुनावों के दौरान ठाकरे और पटवा का मेघराज जैन की अगुआई मे विरोध करने के कारण मेघराज जैन सहित उनकी पूरी टीम को भाजपा से निष्कासित किया गया था। निष्कासित होने वाले नेताओं मे अजय विश्नोई और कैलाश सोनी प्रमुख नेता थे। 1990 -92 की पटवा सरकार के दौरान मेघराज जैन सहित सभी नेताओं की कुशाभाऊ ठाकरे को लिखित माफीनामा देकर भाजपा मे वापसी हुई थी। बाद मे मेघराज जैन को भाजपा संघठन का महाकौशल क्षेत्र का प्रभारी बनाया गया। 93 के विधानसभा चुनावों मे अजय विश्नोई और कैलाश सोनी दोनों को भाजपा ने टिकट दिया और दोनों चुनाव में पराजित हुए थे।

बात 1993 की है जब कुशाभाऊ ठाकरे चुनावी तैयारी के लिए सागर दौरे पर आये दिनभर की मैराथन बैठकों के बाद ठाकरे जी ने रात 9-10 के लगभग करेली चलने को कहा तब सागर भाजपा के बडे नेता भानुराणा और मैं ( पवन देवलिया ) ठाकरे जी को 800 मारुति कार से देवरी के रास्ते से करेली के लिए निकले। विधानसभा चुनाव ठंडो के समय होते है उस समय भी खासी ठंड थी सो बचने के लिए रास्ते भर जो भी अलाव या ढाबो पर आग जलती हुई मिली हम लोग रुक रुककर 3 साढे तीन बजे करेली कैलाश सोनी के निवास पहुचे। ठाकरे जी को सोनी के यहा छोडा और हम लोग वापिस सागर रवाना हुए।

सागर से करेली रास्ते की यात्रा के दौरान ठाकरे जी ने कैलाश सोनी और प्रहलाद पटेल की राजनैतिक रस्साकसी के अनेक किस्से सुनाये। चूंकि प्रहलाद पटेल ठाकरे पटवा खेमे के विरोधी थे कैलाश सोनी की भाजपा में वापसी इसी कारण ठाकरे जी ने कराई थी।

नरसिंहपुर जिले में प्रहलाद पटेल के विरोधी होने का राजनैतिक लाभ राज्यसभा में जाकर कैलाश सोनी को मिला। प्रदेश भाजपा संघठन और सरकार ने प्रहलाद पटेल की प्रदेश मे वापसी रोकने और उनके कद को बराबर रखने के लिए पहले उनके छोटे भाई जालमसींग पटेल को चुनावी वर्ष में राज्यमंत्री बनाया और पटेल के विरोधी सोनी को राज्यसभा में भेजने का रास्ता बनवाया।

कैलाश सोनी दो बार विधानसभा के चुनावों मे पराजित हुए और सबसे लंबे समय तक नरसिंहपुर जिले के भाजपा अध्यक्ष रहे है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: