रंगीन हुआ भोपाल ,समलैंगिकों ने निकाली परेड

भोपालः समलैंगिकों के अधिकारों और धारा 377 के विरोध में बुधवार को एमपी की राजधानी भोपाल के वोट क्लब पर परेड कर यौन अल्पसंखयकों ने अपने अधिकारों की बात की. कई युवा जोड़ों ने इस दौरान समलैंगिकता पर खुलकर बात की. इस परेड में भोपाल के अलावा मुम्बई,कलकत्ता,बैंगलूर जैसे प्रमुख शहरों से समलैंगिकों ने भाग लिया. यह पहली बार था जब भोपाल में समलैंगिककों को लेकर इतना बड़ा आयोजन हुआ हो. मुम्बई से आए सुमित,शिवम,सुरुज और हैदराबाद से राम राव इस परेड में शामिल होने आए. इनका कहना है कि मानव अधिकारों की बात तो देश मे की जाती है पर समलैंगिकों के मानव अधिकारों पर कोई बात नही करता. इसलिए यह लडाई को आगे बढ़ने हम इस परेड में शामिल हुए है.

यह आयोजन होमोफोबिया और ट्रांसफोबिया के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के मौके पर हुआ है. जो कि 1969 से लगातार मनाया जा रहा है. इसमें  एलजीबीटीक्यू यानि जो समलैंगिक, समलैंगि, उभयलिंगी,और क्यूयर श्रेणी के है उनका यह उत्सव के माध्यम से उनके बुनियादी मानवाधिकारों की मान्यता के लिए मनाया जाता है. इसकी शुरूआत न्यूयॉर्क में  इन्द्रधनुष प्रथा के साथ हुई थी जिसका विस्तार भारत सहित अन्य की देशों में भी है.

यह पहली बार था जब मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में लेक व्यू पर वैकल्पित कमुकताओं का यह जश्न मनाया गया. जिसमें गीत संगीत के साथ ही नाटक का मंचन भी किया गया. इस दौरान इस उत्सव के समर्थन में कई जवान लड़के-लड़कियाँ भी लेक व्यू पर उपस्थित रहे और भोपाल प्राइड में हिस्सा लिया.

Leave a Reply

%d bloggers like this: