मक्का मामले में भाजपा-कांग्रेस आमने-सामने

हैदराबादः मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में सभी पांच आरोपी बरी कर दिए गए हैं. हैदराबाद की विशेष एनआईए अदालत ने फैसला सुनाया है.कोर्ट ने कहा कि, मामले में आरोपी बनाए गए स्वामी असीमानंद और अन्य आरोपियों पर एनआईए कोई आरोप साबित नहीं कर पाया. वहीं  एनआईए के प्रवक्ता ने कहा कि, हैदराबाद मक्‍का मस्‍जिद विस्‍फोट मामले में न्‍यायालय के फैसले का अध्‍ययन किया जाएगा और इसके बाद ही आगे की कार्रवाई तय की जाएगी.

सभी पांच आरोपी देवेंद्र गुप्ता, लोकेश शर्मा, स्वामी असीमानंद उर्फ नबा कुमार सरकार, भारत मोहनलाल रत्नेश्वर उर्फ भारत भाई और राजेंद्र चौधरी को कोर्ट ने बरी करने का फैसला सुनाया. इन सभी को मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में गिरफ्तार किया गया था और उनपर ट्रायल चला था.

मामले को लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर तंज कसा है और कहा है कि,फैसले से कांग्रेस की तुष्टिकरण की नीति और एक धर्म विशेष को बदनाम करने की कोशिश का पर्दाफाश हो गया है. नई दिल्ली मेंभाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि, कांग्रेस ने धर्म को बदनाम करने के लिए हिन्दू आतंकवाद जैसी टिप्पणी का इस्तेमाल किया.

वहीं कांग्रेस ने कहा है कि इस फैसले के बाद लोगों का सरकारी एजेंसियों पर से भरोसा उठ गया है. पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने आरोप लगाया कि, ये एजेंसियां सरकार के इशारों पर काम कर रही हैं.

आपको बता दें कि, 18 मई, 2007 को हैदराबाद की मक्का मस्जिद में जुमे की नमाज़ हो रही थी. इस दौरान हुए विस्फोट में 9लोगों की मौत हो गई थीऔर 58 लोग घायल हो गए थे.बाद में प्रदर्शनकारियों पर हुई पुलिस फायरिंग में भी कुछ लोग मारे गए थे.इस मामले में 10 आरोपियों में से 8 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई थी.

Leave a Reply

%d bloggers like this: