भोपाल में भालू का हमला, 6 घायल

आसिफ हसन, वन संवाददाता

भोपाल: गर्मी बढ़ते ही प्यासे जंगली जानवरों ने पानी की तलाश में इंसानी बस्तियों में घुसना शुरू कर दिया है। रविवार सुबह करोंद के पास स्थित सेंट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में एक भालू आ घुसा। यह वही इलाक़ा है जहां तीन साल पहले भी एक टाइगर आ घुसा था, जिसे पकड़ने मे वन विभाग को पूरा दिन भारी मशक्कत करना पड़ी थी और शाम को ईश्वरीय चमत्कार से टाइगर क़ैद हो पाया था।

ऐसे ही रविवार को भी नबिबाग में घुसे भालू ने सुखराम नाम के व्यक्ति पर हमला कर दिया। आसपास मौजूद लोगों के चिल्लाने पर भालू वहां से भाग निकला लेकिन आगे बढ़ते हुए उसने एक महिला,एक 7 साल की बच्ची और तीन अन्य पुरुषों को घायल कर दिया। यह सभी करोंद स्थित साईं अस्पताल में भर्ती है। सूचना मिलने पर भोपाल वनमण्डल का पूरा अमला भालू की तलाश में लग गया। सुबह 10 बजे भालू की लोकेशन चोपड़ा गाव के पास एक गेहूँ के खेत मे मिली। पूरे दिन की मशक्कत के बाद भी भालू उस खेत से बाहर नही निकला। शाम करीब 4:30 पर एक बार फिर भालू उसी खेत मे नज़र आया। डीएफओ डॉ. एस पी तिवारी के निर्देशन में एसडीओ सुनील भारद्वाज और एसडीओ सत्येंद्र भदौरिया साहित करीब 50 वनकर्मियों ने भालू की दो तरफ से जाल लेकर घेराबंदी शुरू की।

नाकेदार हुआ शिकार

इसी दौरान जाल पकड़कर भालू को फंसाने आगे बढ़ रहा नाकेदार मंशाराम टीम से अलग होकर दूर निकल गया। तभी चारों तरफ से घिरे भालू को मौक़ा मिला। भालू ने मंशाराम पर हमला कर उसका पैर मुँह में दबाकर चबा दिया। आसपास खड़े अन्य स्टाफ ने आनन फानन में भालू को डंडो से मार कर नाकेदार को भालू के चंगुल से छुड़ाया। तभी भालू वहां से भाग निकला। घायल मंशाराम के एक पैर की दो नसे बुरी तरह से श्रतिग्रस्त हो गई है। फिलहाल उसे भी साईं अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कर दिया गया है।

वनविभाग उठा रहा सारा खर्च
भोपाल सीएफ, एसपी तिवारी के मुताबिक नाकेदार सहित भालू के हमले में घायल सभी लोगों के ईलाज का खर्च वन विभाग उठाएगा साथ ही घायलों को उचित मुआवजा भी दे दिया गया है।

चोकसी रहेगी जारी

एसडीओ सुनील भारद्वाज के मुताबिक भालू के पकड़े जाने या जंगल मे वापस लौटने तक पूरे इलाके पर निगरानी रखी जाएगी। चौबीसों घंटे वन अमला मुस्तेदी से इलाके की निगरानी करेगा।

Leave a Reply