बाबा बर्फानी के भक्तों के लिए खुशखबरी

नई दिल्ली:  अमरनाथ यात्रियों के लिए खुशखबरी की खबर है. सुप्रीम कोर्ट ने एनजीटी के उस फैसले को रद्द कर दिया है जिसमें एनजीटी ने अमरनाथ को साइलेंस जोन घोषित करने का आदेश दिया था. नेशलन ग्रीन ट्रीबुनल ने अमरनाथ यात्रा को साइलेंस जोन घोषित करने का आदेश दिया था. जिसमें वहां पर शोर मचाना, गर्मी, घंटा बजाने जैसों पर रोक लगा दी थी. एनजीटी ने इसके पीछे पर्यावरण को नुकसान का तर्क दिया था, और कहा था कि, इससे हिम महाशिवलिंग पर असर पड़ता है जिससे भगवान अमरनाथ का शिवलिंग जल्दी पिघलने की आशंका बनी रहती है.

एनजीटी ने यह भी कहा था कि, पवित्र गुफा की तरफ जाने वाली करीब 30 सीढ़ियों पर यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि, कोई भक्त कोई सामान लेकर नहीं जाए क्योंकि यह परंपरा बोर्ड की ही है.वहीं एनजीटी ने कहा था कि, भारत में कई मंदिरों मे बात करने की मनाही है और वहां पर साइलेंस जोन है, जैसे बहाई मंदिर, तिरुपति और अक्षरधाम में. साथ ही कहा था कि, अमरनाथ में शौर के चलते लैंडस्लाइड का खतरा बना रहता है. ऐसे में पर्यावरण की दृष्टि से बेहद संवेदनशील होने और इलाके में ग्लेशियरों की संवेदनशीलता को देखते हुए यहां शोर-शराबा नहीं होना चाहिए और यात्रियों की संख्या को भी कम किया जाना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बाबा बर्फानी के भक्तों में खुशी की लहर दौड़ गई है. साथ ही अब बाबा अमरनाथ का कोई भक्त गुफा में हिम शिवलिंग के सामने खड़ा होकर बाबा बर्फानी के जयकारा लगा सकता है. बीते साल एनजीटी ने अमरनाथ को साइलेंस जोन घोषित करने का आदेश दिया था. इसमें वहां पर शोर मचाना, गर्मी, घंटा बजाने जैसों पर रोक लगा दी थी. इसके पीछे तर्क दिया गया था कि इससे हिम महाशिवलिंग पर असर पड़ता है और जल्दी पिघलने की आशंका बनी रहती है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: