पत्थरबाजों को सेना का जवाब, गोगोई का होगा सम्मान

Bhopal: आलोचनाओं की परवाह न करते हुए जिस तरह से इंडियन आर्मी ने मेजर लितुल गोगोई को सम्मानित करने का ऐलान किया है, उसकी सरकार के तमाम मंत्रियों ने ही नहीं बल्कि विपक्ष के भी कुछ नेताओं ने जमकर प्रशंसा की है. मेजर गोगोई तब चर्चा में आए थे, जब उन्होंने कश्मीर में पत्थरबाजों से बचने के लिए उन्हीं में से एक पत्थरबाज को अपनी जीप के आगे बांध लिया था. पत्थरबाज को जीप के आगे बांधे हुए उनकी तस्वीर बहुत चर्चा में आई थी. आर्मी ने उनकी इस हरकत की जांच कराने की बात कही थी, लेकिन इसी बीच में सोमवार को आर्मी चीफ द्वारा उन को सम्मानित करने की खबर से यह बात साफ हो गई कि सेना यह संदेश देना चाहती है कि कश्मीर में अब वह हिंसा फैलाने वालों से कड़ाई से निपटेगी.

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री और नॉर्थ ईस्ट मामलों के मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि मेजर गोगोई को सम्मानित करके सेना ने देश से प्यार करने वाले सभी लोगों का गौरव बढ़ाया है. उन्होंने कहा कि कुछ समय से ऐसा माहौल बनाने की कोशिश हो रही थी जिससे लगता था कि जो लोग देश को गाली देते हैं और बात बात में सेना और देश की निंदा करते हैं सिर्फ वही लोग चर्चा में हैं. लेकिन मेजर गोगोई को सम्मानित करके भारतीय सेना ने देशभक्त लोगों का मान बढ़ाया है.

जितेंद्र सिंह ने कहा कि को नॉर्थ ईस्ट के मंत्री भी हैं और जबसे मेजर गोगोई को सम्मानित करने की खबर आई है तब से लगातार उनके पास पूर्वोत्तर राज्यों से फोन आ रहे हैं. वहां के लोग मेजर गोगोई को सम्मानित करने से बेहद खुश हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि उन्हीं के बीच से भारत के सपूत ने देश का मान बढ़ाया है. नौशेरा में भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान के बंकरों को तबाह किए जाने पर जितेंद्र सिंह ने कहा की जम्मू कश्मीर हमारा है और वहां के लोग लगातार इस बात को कह रहे हैं कि पाकिस्तान को जैसा मुंहतोड़ जवाब अब मिल रहा है वैसा पहले कभी नहीं मिला था.

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी मेजर गोगोई को सम्मानित किए जाने का स्वागत किया और कहा कि उनकी आलोचना करने वाले यह लोग भूल जाते हैं कि उन्होंने पत्थरबाज को जीप से तब बांधा था, जब 19 लोगों की जान बचाने की जिम्मेदारी उन पर थी. उन्होंने कहा कि मेजर गोगोई की आलोचना करने वाले लोग तब क्यों खामोश थे, जब कश्मीर के ही एक सपूत फ़याज की हत्या उस वक्त कर दी गई जब वह शादी में शरीक होने गए थे.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी मेजर गोगोई को सम्मानित किए जाने का जोरदार स्वागत किया. अमरिंदर सिंह ने कहा कि गोगोई ने बहुत सूझ-बूझ और दिलेरी का परिचय दिया था और अगर वैसी परिस्थिति में वह खुद भी फंसे होते तो शायद यही कदम उठाते.

हालांकि, जनता दल यूनाइटेड के नेता शरद यादव ने कैप्टन गोगोई को सम्मानित किए जाने पर सवाल उठाते हुए कहा था कि इसका कश्मीर में बुरा असर होगा.

Leave a Reply

%d bloggers like this: