गाँधीवादी रामेश्वर बने मध्यप्रदेश के अन्ना हजारे

भोपालः इन दिनों राजधानी भोपाल से 566 किलो मीटर दूर प्रदेश सरकार की नीतियों के विरोध में एक गाँदीवादी प्रदेश के लोगों के लिये अपने प्राण न्यौछावर करने के लिए अमरण अनशन पर बैठा है. जिस तरह सरकारी कार्यप्रणाली से लड़कर देश के लोगों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बने अन्ना हजारे ने पहले महाराष्ट्र सरकार और फिर देश की सरकार को हिलाकर रख दिया था. उसी तरह रीवा जिले की मनगवां तहसील में गाँधीवादी रमेश्वर गुप्ता अमरण अनशन पर बैठे है. गाँधी जी के ग्राम स्वराज के सपने को अपने प्रदेश में मूर्तरूप में देखने की चाह रखने वाले रामेश्वर गुप्ता 5 दिनों से मनगवां तहसील कार्यालय के सामने अपनी 14 सूत्रीय मांगों को लेकर अनशन कर रहे है. प्रदेश में चौपट कानून व्यवस्था, शिक्षा के व्यवसायीकरण और प्रदेश में दबंगों के कब्जे में सीलिंग की जमीन जैसी प्रमुख समस्याओं को लेकर 65 वर्षिय रामेश्वर गुप्ता जी अमरण अनशन पर बैठे है. उनका कहना है कि प्रदेश की सरकार उनकी सरकार है लेकिन जिस तरह प्रदेश  में व्यापक भ्रष्ट्राचार, दबंगों का बोलवाला और निरंकुश नौकरशाही है उससे वह अप्रसन्न है.

सरकार की नीतियों को लेकर गुप्ता जी कहते है कि वह कई बार प्रदेश और अपने क्षेत्र के लिए अनशन कर चुके है कई आंदोलन उन्होनें चलाए और कई बार वह जेल भी गए लेकिन हर बार सरकार ने उनकी माँगों पर विचार किया और उन्हें हल किया लेकिन वर्तमान सरकार जिसे वह अपनी सरकार बताते है आम लोगों की समस्याओं से रूबरू नहीं है वह प्रदेश में कांग्रेस सरकार की याद करते हुए कहते है कि जब प्रदेश में कांग्रेस का राज था तो सरकार बहुत ही संवेदनशील थी जब भी उन्होनें आवाज उठाई तो उनकी आवाज सुनी गई लेकिन वह पिछले पाँच दिनों से अमरण अनशन पर बैठे है लेकिन न तो कोई जन प्रतिनिधी आया और न ही सरकार का कोई अफसर. रीवा जिला मुख्यालय से 30 किलो मीटर दूर मनगवां तहसील के निवासी रामेश्वर गुप्ता सरकार की नीतियों से दुखी है. गाँधी विचार मंच के संयोजक होने गाँधीवादी रामेश्वर गुप्ता की 14 सूत्रीय माँगों को लेकर बुधवार को आम लोगों ने मनगवां तहसील बंद रखने का आवहन किया है. गाँधीवादी रामेश्वर गुप्ता किसानों, मजदूरों,अनुसूचित जाति-जनजाति के लोगों की माँग को लेकर अपने प्राणों की परवाह किए बिना अमरण अनशन कर रहे है जिसमें गाँधी के ग्राम स्वराज के सपने को पूरा करने की लड़ाई वह सरकार से लड़ रहे है. मध्यप्रदेश में रामेश्नर गुप्ता अन्रा हजारे की तरह अनीति के खिलाफ मशाल लेकर चल पडे है जिसमें आम लोग भी उनके इस अभियान में जुड़ते जा रहे है. वही उनकी माँगों को लेकर वह देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भी खत लिखकर प्रदेश में व्याप्त समस्याओं के विषय में अवगत करवाने की बात कर रहे है. जिससे देश के प्रधान सेवक को राज्य में व्याप्त सरकारी नीतियों से रूबरू करवाया जा सके. रामेश्वर गुप्ता अपनी 14 सूत्रीय मांगों को लेकर अपनी अंतिम सांस तक लड़ने की बात कहते है.

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

mpheadline.com@gmail.com
http://www.facebook.com/mpheadline
SHARE