किसानों के बाद व्यापारियों में आत्महत्या का दौर शुरू

कटनी(म.प्र.): कटनी के माधवनगर थाना अंतर्गत हाउसिंग बोर्ड निवासी एक दाल व्यापारी ने मंगलवार को सूने घर में फांसी के फंदे से लटककर आत्महत्या कर ली। बताया जाता है कि व्यापारी को अरहर दाल और मसूर दाल में करोड़ों रुपये का नुकसान उठाना पड़ा। जिसके चलते उसने अपनी इहलीला ही समाप्त कर दी। हालांकि पुलिस द्वारा पूरे मामले को जांच में लिया गया है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार हाउसिंग बोर्ड में रहने वाले 46 वर्षीय वीरूमल पंजवानी पिता जांगरमल पंजवानी विशाल एजेंसी का संचालन करते थे।

वही व्यापारियों का कहना है कि सरकार द्वारा दाल मिलों और व्यवसाय को लेकर बनाई गई नीतियों के कारण काफी लंबे समय से दाल व्यवसायी व्यवसाय में टूट चुके है। माधवनगर में व्यापार चौपट हो गया है। कई मिले बंद हो गई तो कई बंद होने की कगार पर है। जिस कारण कई व्यापारियों को लाखों-करोड़ों का घाटा उठाना पड़ा है।

जबकि मृतक व्यापारी वीरूमल को 10 से 12 करोड़ रूपये का व्यवसाय में घाटा होने का लोग अनुमान लगा रहे है। शायद यही वजह रही होगी जिसके चलते वीरूमल द्वारा आत्महत्या करने का कदम उठाया गया है।व्यापारी ने अपने सुसाइड नोट में व्यापार में घाटे का जिक्र किया है।

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर व्यापारी के शव को कब्जे में लेकर मर्ग कायम कर बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और घटना की जांच शुरू कर दी।

कटनी जिले में तीन सौ से लेकर चार सौ दाल मिल है जिसमे कई मिलें नोटबंदी के बाद से बंद पड़ी है। इन मिलो पर बेंको का 75 प्रतिशत कर्जा है। बताया जाता है कि लगभग बीस वर्षो से मंडी टैक्स मे प्रशासन दाल मिलो को छूट देते आ रहा है। यह पहली बार है जब शिवराज सरकार ने मंडी टैक्स वापिस ले लिया। जिसके कारण एक व्यापारी ने आत्महत्या कर ली वही व्यापारियों का कहना है कि स्थिति यही रही तो कर्ज के बोझ तले दबे और व्यापारी भी ऐसा कदम उठाने को मजबूर होंगे।

संवाददाता- लीलाधर जाटव कटनी

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

mpheadline.com@gmail.com
http://www.facebook.com/mpheadline
SHARE