कितने क्यूट अंदाज में कहा ”पापा पहाड़ बचा लो”, देखिये आप भी

पर्यावरण बचाने की पहल सब करते है और हमारी सरकार पर्यावरण को सहजने में प्रयासरत है.पर्यावरण शब्द का निर्माण दो शब्दों से मिल कर हुआ है.”परि” जो हमारे चारों ओर है और “आवरण” जो हमें चारों ओर से घेरे हुए है.

 

पर्यावरण उन सभी भौतिकरासायनिक एवं जैविक कारकों की समष्टिगत इकाई है जो किसी जीवधारी अथवा पारितंत्रीय आबादी को प्रभावित करते हैं तथा उनके रूपजीवन और जीविता को तय करते हैं.एक तीन साल की बच्ची पहाड़ की कटाई देखकर भावुक हो गईउसने अपने पापा से बार-बार पोकलेन मशीन बंद कराने को कहा.वीडियो में बच्ची बड़े क्यूट अंदाज में अपने पापा से कह रही है.बोल दो.हमारा पहाड़ मत खराब करो, बोलो, हमारा पहाड़ क्यों तोड़ रहे हैं.प्लीज बोलो.

दरअसल बच्ची अपने पापा के साथ कार में हिमाचल प्रदेश के नारकंडा से लौट रही थी.इसी दौरान रास्ते में उसे पहाड़ की कटाई करते हुए पोकलेन मशीन दिखी तो बच्ची भावुक हो गई.और अपने पाप से पौकलेन मशीन बंद कराने को कहने लगी.तीन साल की अद्विका शिवानी नाम की बच्ची का वीडियो वायरल हो गया है.इस बच्ची इस तरह से क्यूट अंदाज में पहाड़ बचाने की जिद, हमारी मानव जाति को ओतप्रेत करती है.

 

इस बच्ची का अपने पापा से कहना कि, पापा हमारे पहाड़ बचा लो..हमें सिखाता है कि, हम पर्यावरण की सुरक्षा करें उसे बर्बाद न करें.बच्ची के शब्द हमें बहुत कुछ सिखा रहे हैं.और कह रहे है.की बहुत हुआ अब, बस पर्यावरण को सहजना है, इस संवारना है.क्योकिं इसके बिना एक अच्छे स्वास्थ्य जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती है.तो बेहतर होगा कि, नव निर्माण और विकास पर्यावरण के दायरे में रखकर किया जाए.

Leave a Reply

%d bloggers like this: