कत्लखाने के खिलाफ जन आंदोलन,मंत्रीयों के बंगलों का किया घेराव

भोपालः मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के पास बनने वाले देश के सबसे बडे बूचड़खाने का विरोध लगातार बढ़ता जा रहा है। जहाँ इस स्लॉटर हाउस के विरोध में ग्रामीण संगठित हो रहे है तो वही इसको लेकर लगातार आंदोलनों का दौर चल रहा है। सोमवार को इसी के चलते प्रदेश सरकार के सभी 30 मंत्रीयों के बंगलों का घेराव ग्रामीण संघर्ष मोर्चा ने किया। संभवतः यह प्रदेश के इतिहास में पहला मामला होगा जब एक साथ एक ही समय पर सरकार के सभी मंत्रियों का घेराव किया गया हो। भोपाल के पास आदमपुर में प्रस्तावित बूचड़खाने को लेकर 20 गाँवों के लोगों ने 50-50 की टोली बनाकर प्रदेश के सभी मंत्रीयों के बंगलों का घेराव किया और प्रस्तावित बूचड़खाने को हटाने की माँग की।

इससे पहले इन ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेड पहुँचकर कलेक्टर को भी स्लॉटर हाउस अन्य जगह स्थानतरित करने की मांग की थी। उस समय आंदोलित ग्रामीणों ने कलेक्टर को अपने खून से लिखा ज्ञापन सौंपा था और इस मामले पर कार्रवाई न होने पर कलेक्ट्रेड में धरना देने की बात भी कही थी. उस समय प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना है कि प्रशासन ने उनकी आपत्तियों को सुने बिना ही कत्लखाने के लिए जमीन फाइनल कर दी। वे किसी भी कीमत में आदमपुर छावनी में स्लॉटर हाउस नहीं बनने देंगे। आंदोलन बढ़ता देख ग्रामीणों के समर्थन में आरएसएस के कार्यकर्ता भी कलेक्टोरेट पहुंच गए थे। जिसके बाद हंगामे की स्थिति से निपटने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल भी तैनात किया गया था।

भोपाल के बीचों बीच 60 पशुओं को काटने की क्षमता वाले छोटे स्लाटर हाउस को शिफ्ट करने के आदेश एनजीटी ने दिए थे परंतु शिफ्टिंग के नाम पर नगर निगम भोपाल ने बड़ा कत्लखाना शुरू करने की योजना बना डाली और उसी का विरोध सारे भोपाल जिले में हो रहा है। दूसरी ओर इस पूरे मामले का एक और पहलू है जिसके अनुसार कोई जनप्रतिनिधि, रहवासी या ग्रामीण नहीं चाहता कि उसके घर के आसपास अत्याधुनिक कत्लखाना खुले। यह भी तय है कि यह कत्लखाना जिस इलाके में खुलेगा, वहां जमीनों के दाम मिट्टी में मिल जाएंगे।

इस पूरे मामले पर ग्रामीण संघर्ष मोर्चा ने सीएम शिवराज सिंह चौहान से भी मुलाकात की थी जिसके बाद सीएम साहब ने इस आधुनिक बूचड़खाने को लेकर कहा था कि इस मामले में वह जानकारी लेकर कार्रवाही करेगें. लेकिन इस मामले पर अभी तक कोई संज्ञान नहीं लिया गया.

सीएम साहब लगातार झूठ बोल रहे हैं कि नए बूचड़ खाने नहीं खोले जाएंगे लेकिन आदमपुर में तो प्रदेश का सबसे बड़ा यांत्रिक कत्लखाना खोला जा रहा है जिसका ग्रामीण विरोध कर रहे हैं आज मध्य प्रदेश सरकार के 30 मंत्रियों का घेराव किया गया आगे भी आंदोलन जारी रहेगा।बृजेश जैन ,मीडिया प्रभारी, ग्रामीण संघर्ष मोर्चा आदमपुर छावनी भोपाल                       

Leave a Reply

%d bloggers like this: